## only three likes ##

88 Only three likes 88

saturday 12:30 27/05/2017

 

|| जिंदगी एक सामान्य सी चलने वाली घड़ी है इस घड़ी मे जाने कितनी ही सुईया होगी पर मेरे इस दोहरे जीवन मे केवल तीन ही कड़िया है जीजश की एक शर्त थी uske liye   की वह अपनी

GF को पाने के लिए जन्नत तक का सफर अकेले ही करना है – हा उसने उसे साधारण रूप से बस पाने की चाह रखी – वह जाता गया हा मुझे आज भी याद है की  वह उसे मिल भी गई , उसकी आवाज उस युवक ने सुनी भी थी पर जीजस ने  कहा की तुम उसे देखे बिना आगे चलते जाओ वह तुम्हें चाहती है पर तुम उसे बिना मिले जहन्नुम या जन्नत के दरवाजे पर जा सकते हो – तब वह बिना पीछे मुड़े आगे चला गया ओर ये भी नहीं पूछा की वह उसे मिलेगी भी या नहीं ओर जहन्नुम के दरवाजे पर चला गया उसे अपने अंजाम की कोई परवाह नहीं थी उसेपता था की वह युवती जन्नत जाएगी इतना याद रखा की केवल 3 लाइक उसकी ज़िंदगी बदल सकती है या मौत दिला सकती है रास्ता साफ था या कांटे फिर भी अंदर चला गया उसे जीवन का लॉं थोड़े ही पता था पर उसे यह एहसास था की न्यू  लाइफ दोनों की ज़िंदगी बादल या यू कहे की ज़िंदगी सफल बना सकती है ||

# quki manjil sabke liye bani hai #

# Us raste se gujar jana apne hatho m hai #

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s