** मेरी सोच **

• केवल मुझे वह रास्ता चाहिए जिस पर चलकर इंसान के अलावा केवल आत्मा जाती है। • मै केवल उसी की लालसा लगाये कार्यरत हॅू जो मुझे बिल्कुल प्रयोग नही करना चाहते/चाहती *** • विघमान परिस्थितियो का सामना करना मेरा कर्तव्य है और बाकियों को तो मैं नही जानता। • चोर बहुत शातिर होते है चोरी करने की तरकीब चुराते है मैं तो केवल अपनों के सोच ही चुराता हॅू । • चांदनी और चांद के कितने कथन विघमान है दिमांग और किताबों मे छपे है,  शायरो के मस्तिष्क मे मेरी संपत्ति तो वही है सदा-सदा के लिए। *** • मानते क्यू  नही मेरी बात —- मैं गलत तो नही हॉ हो गलत तो जवाब कह देना मुझे स्वीकार है। • केवल आपके कथन के अनुसार * दुनिया बहुत बड़ी है, कही भी कोशिश करो सफलता मिल ही जायेगी। • मेरा कथन है कि 100 बार एक ही प्रश्न हल करूंगा चाहे वह हर बार सही हो पर #परीक्षक  गलत करते हो तो मैं क्या करूं । • तकलीफ मुझे भी है उसे भी है पर प्यार मुझे भी है उसका पता नही । WIN_20170326_11_06_52_Pro.jpg

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s