* भूतिया मकान *

एक अनजान सा कस्बा था जिसके दूर छोर पर दक्षिण की तरफ एक पुराना सा मकान था जिसमे शायद ही कोई रहता था हा पर उसके पास के कुछ लोग कहते है कि वह मकान भूतिया मकान है वहा कोई नही जाता पर उमेष उसी मकान की तरफ बढता जा रहा था कि क्या बात है उस धर मे जो लोग उसे भूतिया मकान कह रहे है, जैसे ही उमेष उस पुराने मकान मे प्रवेष करता है तो मकान के दरवाजे अचानक बंद हो गये पर वहा भूत नही दिखे रात हो चली थी कही कुछ नही दिख रहा था कोठरी मे पूरा अंघेरा छा गया था एक बिल्ली की आवाज सुनाई दे रही थी पास मे जाकर देखा तो वहा कोई नही दिखाई दिया लोग कहते है कि उस मकान के दरवाजे पर एक बुढिया बैठी रहती है पर किसी किसी को ही दिखाई देती है उमेष को नींद की झपकी लगी और अचानक ऑख खुली तो सच मे दरवाजे पर एक बुढिया दिखाई दी वह उस समय तो उमेष डर ही गया था पर उसे सच जानना था इसीलिए वह उसे बुढिया के पास गया और बोला तुम कौन हो ! उसने कुछ नही जवाब नही दिया पर वह इषारे कर रही थी पर उमेष उसे समझ नही पाया कहा से आई हो ! वह बोली ये मेरा ही घर है यहा मेरा परिवार रहता है ! उसने उस परिवार की एक तस्वीर दिखाई जिसमे उसका बेटा-बहु ओर दो बच्चे है दो छोटी लडकी है यह बता कर वह जाने कहा चली गई उसके बाद सबेरा हो गया जब उमेष उठा तो वह मकान बदल गया वह एक जंगल मे था जहा पर कोई अन्य मकान नही दिखाई दे रहा है उस मकान मे एक खटिया चारपाई थी जिस पर वह लेट गया और रात हो गई ओर जब अचानक नींद खुला तो वह बुढिया फिर से दिखी उमेष बोला कि तुम बार बार क्यो डरा रही हो मुझे सच जानना है कि यहा क्या हुआ था! वह बुढिया फिर गायब हो गई दरवाजे पर कोई आया था उमेष ने देखा तेा देा छोटी लडकिया थी वे कह रही थी कि दादी है न धर पे नाम पूछा तो पता चला कि दोनो बदल रही थी एक बडी हो रही थी तो दूसरी छोटी हो रही थी पर उमेष डरा नही वे अंदर आयी और बताने लगी की हम सब घर मे थे मम्मी पापा किचन मे थें खाना बना रहे थे मम्मी ने गुलाब जामुन बनाई थी और उसमे स्प्रे मच्छर मारने वाली दवा मिला दी और बोली खाते जाओ खाते जाओ और खाते जाओ खाते खाते मरते जाओ एक एक मम्मी पापा ने खाया एक दादी को दिया ओर एक एक हम दोनो बहने ऐसी हो गई हमे कोई छू नही सकता न ही कोई देखा सकता था उमेष बोला तुम सब मर गये हो लडकिया रोने लगी और बिना दरवाजा खोले बाहर चली गई जब आंख खुली तो वायनाड केरल का जिला वहा था मेने यह अनुभव किया !

Advertisements