पगली तू क्‍यू रो रही है?

पगली तू क्‍यू रो रही है, अब तो पल पल ही तेरी याद सताती है

तुझे देखे बिन दिन नही गुजरता, ना ही रात होती है

इम्‍तहा तेरा इतना भी क्‍या कि हम मिल ना सके,t

जानिब तू कह तो सही कि तुझे क्‍या चाहिए, तेरे लिए तो जां है हाजिर,

मै चाहता तो हॅू तुझसे मिलना पर मजबूरी मुझे रोक लेती है,

तेरा वो कहा अभी भी याद है, कि तुम मेरे धर ना आया करो,

लो हमने भी तुम्‍हारी बात को पत्‍थर की लकीर मान ली है

तुम रहो तो, तुम्‍हे देखना भी गलत होगा अगर तुम्‍हारी मंजूरी हो तो,

वह सुन्‍दर सी लड़की जो मुझे देखा करती थी इस नज़र जे कि,

मेरी नज़र भी धोखा खा जाए, गर तुम देखो मुझे दुपटटे से,

वादा तो तुम कर कभी नही सकते चलो हम ही कर लेते है कि,

तुमसे मिलकर कुछ बात कहनी है, कुछ सुननी हे बात तुम्‍हारी,

नन्‍ही सी कली सी तुम्‍हारी मुस्‍कान, मेरे मन को मोह लेती है,

जब तुम किसी शिकारी की तरह मुझे देखती हो खा जाने की नज़र से,

२५ जनवरी की सुबह ११ बजे तम्‍हे देखा था जा रही थी अपनी सखी के संग

तैयारी थी अपने देश के तिरंगे के सान मे कुछ कर गुजरने का

२६ जनवरी को सुबह देखा तो तैयार होकर जा रह थी अपनी सखी के संग

देखा मुझे मुडकर तो ऐसा लगा कि दिल मे करंट सा लग गया हाय उसकी अदा,

…..umee……

miss u

DIl mera>>

Dil mera bhula nahi paata meri nadaaniyaa,
Kyu ye bhul nahi sakta unki gustakhiyaa??

Vo din jab thi dekho kitni nazdeekeeyaa,
aur aaj ka lamha jab hai bas aur bas duriyaaa??

Mera vo bin ruke unsey baataain karte rehna,
Bin scohe samjhe yaar vo sunana sab kahaaniyaa??

KHiloney se ban gaye they hum jinki khatir,
Khud ki bhul gaye ham to ye sab unki meharbaaniyaa??

unki khatir khud ko kya is zamane walon ko bhuley,
Kaise kare beyaan hum tumhe apni kurbaaniyaa!!

Madhosh hotey chale gaye unke raaz e wafa mein is kadar,
Kabhi mallom hua hi nahi hame ye thi sab MERI NAADAANIYAA?

10801943_544271675707261_8047276514219283903_n

मेरी प्‍यारी सी मॉं

मॉ तुम मुझे रोज सुबह उठाती हो तो ऐसा  लगता है कि मै स्‍वर्ग लोक मे हॅू

मेरी मॉं अपने ऑचल से मुझ पर  उढा  रखा है ओर कह रही है कि बेटा

कि तू सदा मेरे साथ  रहना और मेरे बुढापे का सहारा बनना  ऐसा कहते कहते मॉं को हल्‍की सी झपकी लग गई और मे उठ गया

तो नई  सुबह थी २०१६ की

 

 

Maja to tab hai, jab haal aur haalat badle..
Saal toh… Har saal badalte hain..